अब हमारे इश्क़ का कुछ और ही अंदाज़ है भजन लिरिक्स

0
466
अब हमारे इश्क़ का कुछ और ही अंदाज़ है भजन लिरिक्स

अब हमारे इश्क़ का,
कुछ और ही अंदाज़ हैं,
नगमा ऐ दिल बज रहा,
और बे आवाज है।।

तर्ज – दिल से दिल भरकर।



हम किसी के हो गए,

कोई हमारा हो गया,
उनको मुझ पर नाज है,
हमको उन पर नाज है,
अब हमारे इश्क का,
कुछ और ही अंदाज़ हैं।।



वो की जिनके मोर के,

पंखो का सिर पे ताज है,
दिलरुबा हूँ मैं उन्ही की,
वो मेरे सरताज है,
अब हमारे इश्क का,
कुछ और ही अंदाज़ हैं।।



अब हमारे इश्क़ का,

कुछ और ही अंदाज़ हैं,
नगमा ऐ दिल बज रहा,
और बे आवाज है।।
Singer : Ram Gopal Shastri Ji


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें