प्रथम पेज विविध भजन तूने अजब रचा भगवान भाग्य इस नारी का भजन लिरिक्स

तूने अजब रचा भगवान भाग्य इस नारी का भजन लिरिक्स

तूने अजब रचा भगवान,
भाग्य इस नारी का,
नारी का इस नारी का,
तुने अजब रचा भगवान,
भाग्य इस नारी का।।



बेटी बनके घर में आई,

मात पिता ने कर दी पराई,
तूने कैसा दिया अभिशाप,
भाग्य इस नारी का,
तुने अजब रचा भगवान,
भाग्य इस नारी का।।



लक्ष्मी बन ससुराल में आई,

दान दहेज भी साथ में लाई,
बदले मे मिला अपमान,
भाग्य इस नारी का,
तुने अजब रचा भगवान,
भाग्य इस नारी का।।



मायका बोले बेटी परायी,

सासरिये बोले पराये घर ते आई,
घर कौन सा बेटी का,
भाग्य इस नारी का,
तुने अजब रचा भगवान,
भाग्य इस नारी का।।



सास ससुर की पूजा कीनि,

घर परिवार की सेवा किनी,
कलयुग की पडी है मार,
भाग्य इस नारी का,
Bhajan Diary Lyrics,
तुने अजब रचा भगवान,
भाग्य इस नारी का।।



तूने अजब रचा भगवान,

भाग्य इस नारी का,
नारी का इस नारी का,
तुने अजब रचा भगवान,
भाग्य इस नारी का।।

स्वर – रेखा गर्ग।
प्रेषक – मुदित शर्मा।
6261322133


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।