तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे भजन लिरिक्स

तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे,
जली लंका मेरी जला मैं भी,
एक दिन तुम भी जलाये जाओगे,
तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे।।

तर्ज – तुम मुझे यूँ भुला न पाओगे।



मैंने सीता हरी हरि के लीये,

मैंने सीता हरी हरि के लीये,
राक्षक कुल की बेहतरी के लीये,
मैंने प्रभु को रुलाया वन वन में,
तुम प्रभु को रुला न पाओगे,
तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे।

तुम मुझे यू जला ना पाओगे,
जली लंका मेरी जला मैं भी,
एक दिन तुम भी जलाये जाओगे,
तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे।।



आज रावण से राम डरते है,

आज रावण से राम डरते है,
लखन ही सीता हरण करते है,
आज घर घर में छुपे है रावण,
आग किस किस को भला लगाओगे,
तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे।

तुम मुझे यू जला ना पाओगे,
जली लंका मेरी जला मैं भी,
एक दिन तुम भी जलाये जाओगे,
तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे।।



सीता हरना तो एक बहाना था,

सीता हरना तो एक बहाना था,
मुझको दर्शन प्रभु का पाना था,
मैंने मर कर के पाया प्रभु जी को,
जिन्दा रह करके जो तुम ना पाओगे,
तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे।

तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे,
जली लंका मेरी जला मैं भी,
एक दिन तुम भी जलाये जाओगे,
तुम मुझे यूँ जला ना पाओगे।।

Singer : Mukesh Badga
Sent By : Devanand Agarwal


3 टिप्पणी

  1. Sir is taraj per aap ik bajan bana dein
    Aap ki bhaut kirpa hogi
    Hamey suchit Kar Dena

    Roop kishor sharma ladwa
    Distk kurukshetra
    Mob98132 62599

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें