एक स्वांस का अंतर है मौत और जिंदगानी में लिरिक्स

एक स्वांस का अंतर है,
मौत और जिंदगानी में,
थम गई जो तेरी धड़कने,
खत्म सारी कहानी है।।

तर्ज – एक प्यार का नगमा।



एक स्वांस की चाबी से,

चलता ये खिलोना है,
बेबस हुआ ये जीवन,
आया जबसे कोरोना है,
चहूं और कयामत है,
ऐसी परेशानी है,
थम गई जो तेरी धड़कने,
खत्म सारी कहानी है।।



सृष्टि ने पग पग पर,

एहसास कराया है,
औकात हमारी क्या,
सबको समझाया है,
फिर भी न समझ पाए,
कैसी ये नादानी है,
थम गई जो तेरी धड़कने,
खत्म सारी कहानी है।।



संकट ये जो छाया है,

तब समझ में आया है,
ईश्वर से बड़ा न कोई,
जिसने जग में बनाया है,
आशाओं की किरणों से,
नई दुनिया बसानी है,
थम गई जो तेरी धड़कने,
खत्म सारी कहानी है।।



एक स्वांस का अंतर है,

मौत और जिंदगानी में,
थम गई जो तेरी धड़कने,
खत्म सारी कहानी है।।

लेखक / प्रेषक – शिव नारायण वर्मा।
8818932923
गायक – विजय सोनी।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

नाम हरि का हृदय से ना भूलो ये भुलाने के काबिल नही है लिरिक्स

नाम हरि का हृदय से ना भूलो ये भुलाने के काबिल नही है लिरिक्स

नाम हरि का हृदय से ना भूलो, ये भुलाने के काबिल नही है, बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है, ये गंवाने के काबिल नही है।। तर्ज – ज़िन्दगी एक…

कामदगिरि की करो परिक्रमा ध्यान लगा भगवान का लिरिक्स

कामदगिरि की करो परिक्रमा ध्यान लगा भगवान का लिरिक्स

कामदगिरि की करो परिक्रमा, ध्यान लगा भगवान का, सुफल मनोरथ हो जाएं सब, दर्शन हो श्री राम का।। रामघाट में पहले जायें, मंदाकिनि स्नान को, ब्रह्मा ने जिन शिव को…

कैलाश पुरी से चाल के शिव नन्द महर घर आयो लिरिक्स

कैलाश पुरी से चाल के शिव नन्द महर घर आयो लिरिक्स

कैलाश पुरी से चाल के, शिव नन्द महर घर आयो।। राग – पारवा ~ लावणी। शिव भगति मं मगन, दरस री लगन, “ध्यान लाग्यो धरणै”-२, महाराज ध्यान लाग्यो धरणै, हेजी-२…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे