म्हारे मन की बात बाबा थारे से ना छानी हैं भजन लिरिक्स

म्हारे मन की बात,
बाबा थारे से ना छानी हैं,
थाने लाज बचानी हैं,
म्हारे मन की बात।।

तर्ज – एक तेरा साथ।



बालक म्हे हां थारा,

थे ही तो बस म्हारा,
ओ कुल का देवता,
आडा ही आया हो,
म्हाने बचाया हो,
ओ बाबा थे ही सदा,
भुला कैया श्याम,
थारी इतनी मेहरबानी हैं
थाने लाज बचानी हैं,
म्हारे मन की बात।।



दुखड़ा का मारया हां,

पल्लो पसारया हां,
दयालु मेहर करो,
आ जाओ श्याम धणी,
ले हाथा मोर छड़ी,
थे मत ना देर करो,
अन्तर्यामी श्याम,
बोलो क्या कि खीचा तानी हैं,
थाने लाज बचानी हैं,
म्हारे मन की बात।।



नसीब खोटो है,

पर मालिक मोटो है,
तो डर किस बात को,
मनड़ो यो काचो है,
तू देव सांचो है,
रखवालो दिन रात को,
विपदा जो आई,
बाबा थाने ही सल्टाणी है,
थाने लाज बचानी हैं,
म्हारे मन की बात।।



बैगा सा आ जाओ,

धीरज बंधा जाओ,
घटा घनघोर है,
आया नई बनती क्या,
आनो ही पड़ती श्याम,
थारे पर जोर है,
डगमग डोले नांव,
थाने पार लगाणी है,
थाने लाज बचानी हैं,
म्हारे मन की बात।।



म्हारे मन की बात,

बाबा थारे से ना छानी हैं,
थाने लाज बचानी हैं,
म्हारे मन की बात।।

Singer : Rajni Rajasthani


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें