तुम करो हरी से प्यार अमृत बरसेगा भजन लिरिक्स

तुम करो हरी से प्यार अमृत बरसेगा भजन लिरिक्स

तुम करो हरी से प्यार,
अमृत बरसेगा,
बरसेगा बरसेगा,
तुम करो प्रभु से प्यार,
अमृत बरसेगा।।



दया धर्म से प्रीत कर लो,

भव सागर से पार उतर लो,
हो जाए बेडा पार,
अमृत बरसेगा,
बरसेगा बरसेगा,
तुम करो प्रभु से प्यार,
अमृत बरसेगा।।



सत्य ज्ञान का पहनों गहना,

कड़वा बोल कभी ना कहना,
करो आत्म उद्धार,
अमृत बरसेगा,
बरसेगा बरसेगा,
तुम करो प्रभु से प्यार,
अमृत बरसेगा।।



प्रेम प्रभु से जो नहीं करता,

पड़ा नरक में फिर वो सड़ता,
लालच दे संसार,
अमृत बरसेगा,
बरसेगा बरसेगा,
तुम करो प्रभु से प्यार,
अमृत बरसेगा।।



नाम प्रभु का अमृत प्याला,

पीले बनके किस्मत वाला,
मिले न बारम्बार,
अमृत बरसेगा,
बरसेगा बरसेगा,
तुम करो प्रभु से प्यार,
अमृत बरसेगा।।



तुम करो हरी से प्यार,

अमृत बरसेगा,
बरसेगा बरसेगा,
तुम करो प्रभु से प्यार,
अमृत बरसेगा।।

स्वर – सैजल।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें