मत कर माया को अहंकार काया गार से काची भजन लिरिक्स

मत कर माया को अहंकार,
मत कर काया को अभिमान,
काया गार से काची,
काया गार से काची,
जैसे ओस रा मोती,
झोंका पवन का लग जाए,
झपका पवन का लग जाए,
काया धूल हो जासी।।



ऐसा सख्त था महाराज,

जिनका मुल्कों में राज,
जिन घर झूलता हाथी,
जिन घर झूलता हाथी,
उन घर दिया ना बाती,
झोंका पवन का लग जाए,
झपका पवन का लग जाए,
काया धूल हो जासी।।



खूट गया सिन्दड़ा रो तेल,

बिखर गया सब निज खेल,
बुझ गयी दिया की बाती,
बुझ गयी दिया की बाती,
रे जैसे ओस रा मोती,
झोंका पवन का लग जाए,
झपका पवन का लग जाए,
काया धूल हो जासी।।



झूठा माई थारो बाप,

झूठा सकल परिवार,
झूठा कूटता छाती,
झूठी कूटता छाती,
जैसे ओस रा मोती,
झोंका पवन का लग जाए,
झपका पवन का लग जाए,
काया धूल हो जासी।।



बोल्या भवानी हो नाथ,

गुरुजी ने सर पे धरया हाथ,
जिनसे मुक्ति मिल जासी,
जिनसे मुक्ति मिल जासी,
जैसे ओस रा मोती,
झोंका पवन का लग जाए,
झपका पवन का लग जाए,
काया धूल हो जासी।।



मत कर माया को अहंकार,

मत कर काया को अभिमान,
काया गार से काची,
काया गार से काची,
जैसे ओस रा मोती,
झोंका पवन का लग जाए,
झपका पवन का लग जाए.
काया धूल हो जासी।।

Singer – Shabnam Virmani
Upload – Ashutosh Trivedi
7869697758


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

मैं बाबोसा का बेटा हूँ बाबोसा पालनहारे है लिरिक्स

मैं बाबोसा का बेटा हूँ बाबोसा पालनहारे है लिरिक्स

मैं बाबोसा का बेटा हूँ, बाबोसा पालनहारे है, मंजू बाईसा की छवि में हम, श्री बाबोसा को निहारे है, में बाबोसा का बेटा हूँ।। तर्ज – मैं पल दो पल…

हमको चुरू धाम बुलाया मेहरबानी आपकी लिरिक्स

हमको चुरू धाम बुलाया मेहरबानी आपकी लिरिक्स

हमको चुरू धाम बुलाया, मेहरबानी आपकी, मेहरबानी आपकी बाबा, मेहरबानी आपकी, भक्तो पे जो प्यार लुटाया, मेहरबानी आपकी।। तर्ज – दिल ही दिल में। पुण्य प्रबल बाबोसा हमारे, आया आपके…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “मत कर माया को अहंकार काया गार से काची भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे