महिमा भारी तिलक की को कर सके बखान

महिमा भारी तिलक की,
को कर सके बखान,
आप तिलक को मानिये,
श्री विष्णू भगवान।।



जिसके माथे पर तिलक,

की होती है छाप,
भूत प्रेत ही दूर से,
भग जाते चुपचाप।।



माथे की शोभा तिलक,

तिलक हमारी शान,
बिना तिलक माथा लगे,
बिल्कुल ही सुनसान।।



तिलक करे परिवार को,

शक्ति शांति प्रदान,
आप लगाकर देखिये,
हो जाये कल्याण।।



तन मन को शीतल करे,

ये चंदन की छाप,
कट जाते है लगाते,
जन्म जन्म के पाप।।



तिलक लगाने से मिले,

बुद्धि ज्ञान सम्मान,
तिलक हमारे धर्म की,
होती है पहचान।।



वैष्णव जन के तिलक में,

विष्णु लक्ष्मी निवास,
इसीलिये इस तिलक की,
महिमा सबसे खास।।



बिना तिलक होता नहीं,

कोई पूजा पाठ,
तिलक लगायें आप सब,
सदा रहेंगा ठाठ।।



महिमा भारी तिलक की,

को कर सके बखान,
आप तिलक को मानिये,
श्री विष्णू भगवान।।

जय राम जी की।


 

इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

नन्द जी रा लाला म्हारे घरा आवो नी भजन लिरिक्स

नन्द जी रा लाला म्हारे घरा आवो नी भजन लिरिक्स

नन्द जी रा लाला, म्हारे घरा आवो नी, म्हारो हिवडो हरखैला, थांरा दरस दिखावो नीं।। म्हे थांरा लाड लडास्यां, थांनै पालणियै झुलास्यां, थां सागै रास रचास्यां, थांनै मीठा गीत सुणास्यां।…

पांडवा कलजुग आवेला भारी थाने कह गया कृष्ण मुरारी

पांडवा कलजुग आवेला भारी थाने कह गया कृष्ण मुरारी

पांडवा कलजुग आवेला भारी, थाने कह गया कृष्ण मुरारी, ओ पांडवा कलयुग आवेला भारी।। बुद्धिहीन कर्म रा काचा, बुद्धिहीन कर्म रा काचा, कुल मे ग्रीना कवारी, घोरम घोर कलजुग आसी,…

सुखा ने हरियो कर देनो म्हारा चारभुजा जी रो कई केनो

सुखा ने हरियो कर देनो म्हारा चारभुजा जी रो कई केनो

सुखा ने हरियो कर देनो, म्हारा चारभुजा जी रो कई केनो।। हैं रूप रुपाला नारायण, बैकुंठ पति भव तारायण, सोना चांदी रो सज गेहनो, मारा चारभुजा रो कई केनों, सुखा…

जोऊ जोऊ रामा थारी वाट मारा लीलेरा धणी

जोऊ जोऊ रामा थारी वाट मारा लीलेरा धणी

जोऊ जोऊ रामा थारी वाट, वाट रे मारा लीलेरा धणी।। आँधिया तो आवे थारे जातरी, आँधिया ने दीजे बाबा आँख रे, मारा लीलेरा धणी।। लूला तो आवे थारे जातरी, लूला…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे