था बिन म्हारी श्याम कुण लाज बचाव रे भजन लिरिक्स

था बिन म्हारी श्याम कुण लाज बचाव रे भजन लिरिक्स

था बिन म्हारी श्याम,
कुण लाज बचाव रे,
लाज बचाव रे श्याम,
कुण हिवड़े लगाव रे,
था बिन म्हारी श्याम,
कुण लाज बचाव रे।।

तर्ज : दिल का सूना साज
(चल भोले के द्वार ठिकाना)



नाव है छोटी, छोटो माँझी,

खाय रहयो हिचकोले,
कठे छिपयो है श्याम बिहारी,
क्यूँ ना अखियाँ खोले,
मुझ गरीब की नैया ने,
कुण पार लगाव रे,
था बिण म्हारी श्याम,
कुण लाज बचाव रे।।



तेरो टाबर होकर बाबा,

क्यूँ इतनो दुःख पाऊँ,
जितनो सताले जी म थारी,
चौखट से ना जाऊँ,
‘ओम’ के साँची प्रीत को यो ही,
न्याय चुकाव रे,
था बिण म्हारी श्याम,
कुण लाज बचाव रे।।



म्हारा बाबा श्याम धणी तो,

लखदातार कुहावे है,
भक्ता की ते झोली भरते,
भव से पार लगावे है,
नैया म्हारी श्याम,
कुण पार लगावे रे,
था बिण म्हारी श्याम,
कुण लाज बचाव रे।।



था बिन म्हारी श्याम,

कुण लाज बचाव रे,
लाज बचाव रे श्याम,
कुण हिवड़े लगाव रे,
था बिन म्हारी श्याम,
कुण लाज बचाव रे।।



Singer – Shri Om Goenka,

Contact – 9631786155, 8541078432,
Bhajan Submited By – Anant Goenka


 

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें