प्रथम पेज कृष्ण भजन बांह मेरी भी पकड़ एक बार सांवरे भजन लिरिक्स

बांह मेरी भी पकड़ एक बार सांवरे भजन लिरिक्स

बांह मेरी भी पकड़ एक बार सांवरे,
मुझे तेरी बड़ी है दरकार सांवरे,
मेरी नैया है बिच मजधार सांवरे,
तेरे हाथों में है मेरी पतवार सांवरे,
आके मुझको लगा दे उस पार सांवरे,
मुझे तेरी बड़ी है दरकार सांवरे।।

तर्ज – यूँ ही होता रहे तेरा।



मेरा तुझपे भरोसा बड़ा भारी है,

लोग कहते तुझे दातारी है,
मेरी बारी क्यों देर लगाई सांवरे,
मेरी बारी क्यों देर लगाई सांवरे,
तेरी याद में आँखे भर आई सांवरे,
मेरे आंसुओ को देख एक बार सांवरे,
मुझे तेरी बड़ी है दरकार सांवरे।।



जिसने भावो से तुझको मनाया है,

मेरे सांवरे उसी ने तुझे पाया है,
नजरे मुझपे भी कर मेरे श्याम सांवरे,
नजरे मुझपे भी कर मेरे श्याम सांवरे,
मेरे दिल का यही है अरमान सांवरे,
तुझे मिलने को दिल बेकरार सांवरे,
मुझे तेरी बड़ी है दरकार सांवरे।।



बड़ी आस लेके दर तेरे आया हूँ,

सारी दुनिया का सांवरे सताया हूँ,
अपने सिने से लगाले एक बार सांवरे,
अपने सिने से लगाले एक बार सांवरे,
तेरे दास की तू सुनले पुकार सांवरे,
‘राज मित्तल’ पे कर उपकार सांवरे,
मुझे तेरी बड़ी है दरकार सांवरे।।



बांह मेरी भी पकड़ एक बार सांवरे,

मुझे तेरी बड़ी है दरकार सांवरे,
मेरी नैया है बिच मजधार सांवरे,
तेरे हाथों में है मेरी पतवार सांवरे,
आके मुझको लगा दे उस पार सांवरे,
मुझे तेरी बड़ी है दरकार सांवरे।।

Singer – Aarti Sharma


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।