तेरी शरण में आके मैं धन्य हो गया भजन लिरिक्स

तेरी शरण में आके,
मैं धन्य हो गया,
जन्मों की प्यास थी जो,
मैं सम्पन्न हो गया,
तेरी शरण मे आके,
मैं धन्य हो गया।।
teri sharan mein aake main dhanya ho gaya lyrics



कितने मिले अमीर यहाँ,

कितने गरीब,
कितने मिले अमीर यहाँ,
कितने गरीब,
पर आप मिल गये तो,
धनवान हो गया,
तेरी शरण मे आके,
मैं धन्य हो गया।।



दुःख में तड़प रहा था प्रभु,

मुद्दतों से मैं,
दुःख में तड़प रहा था प्रभु,
मुद्दतों से मैं,
एक आपका सहारा,
साकार हो गया,
Bhajan Diary Lyrics,
तेरी शरण मे आके,
मैं धन्य हो गया।।



करना कभी ना दूर प्रभु,

चरणों से आप,
करना कभी ना दूर प्रभु,
चरणों से आप,
चरणो के ही सहारे,
मैं भव पार हो गया,
तेरी शरण मे आके,
मैं धन्य हो गया।।



तेरी शरण में आके,

मैं धन्य हो गया,
जन्मों की प्यास थी जो,
मैं सम्पन्न हो गया,
तेरी शरण मे आके,
मैं धन्य हो गया।।

स्वर – श्री इंद्रेश जी उपाध्याय।
Upload – Pankaj Sharma Agar
Mo – 9617897018


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें