प्रथम पेज कृष्ण भजन सवरती है तक़दीर खाटू धाम जाने से भजन लिरिक्स

सवरती है तक़दीर खाटू धाम जाने से भजन लिरिक्स

टूटी लकीरे भी हो हाथों में,
तो सवरती है तक़दीर,
खाटू धाम जाने से,
तो संवरती है तक़दीर,
खाटू धाम जाने से।।

तर्ज – चूड़ी जो खनकी।



डगमग डगमग नैया डोले,

माझी बनकर श्याम चले,
भव से पार हो नैया जो,
बाबा श्याम खिवैया हो,
बिगड़ी हो किस्मत भी कभी,
बिगड़ी हो किस्मत भी कभी,
तो बनती है तकदीर,
फागुण मेले में जाने से,
तो संवरती है तक़दीर,
खाटू धाम जाने से।।



हारे का तू सहारा है,

तेरे बिन कौन हमारा है,
हर संकट से बाबा तूने,
हम भक्तों को उबारा है,
महिमा ऐसी नाम की,
महिमा ऐसी नाम की,
तो बनती है तकदीर,
ग्यारस पे खाटू जाने से,
तो संवरती है तक़दीर,
खाटू धाम जाने से।।



टूटी लकीरे भी हो हाथों में,

तो सवरती है तक़दीर,
खाटू धाम जाने से,
तो संवरती है तक़दीर,
खाटू धाम जाने से।।

Singer – Megha Parsai


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।