तनधारी जग में अवधु कोई नहीं सुखिया रे

0
119
तनधारी जग में अवधु कोई नहीं सुखिया रे

तनधारी जग में अवधु,

दोहा- कोई तन दुःखी,
कोई मन दुखी,
थोड़े थोड़े सब दुखी,
सुखी राम को दास।

तनधारी जग में अवधु,
कोई नहीं सुखिया रे,
जन्म लियोड़ा सब दुखिया रे।।



ब्रम्हा भी दुखिया अवधु,

विष्णु भी दुखिया रे,
दुखिया दसो अवतारा रे,
तनधारी जग में अवधू,
कोई नहीं सुखिया रे,
जन्म लियोड़ा सब दुखिया रे।।



धरती भी दुखिया अवधु,

अम्बर भी दुखिया रे,
दुखिया पवन पानी रे,
तनधारी जग में अवधू,
कोई नहीं सुखिया रे,
जन्म लियोड़ा सब दुखिया रे।।



राजा भी दुखिया अवधु,

प्रजा भी दुखिया रे,
दुखिया सकल संसारा रे,
तनधारी जग में अवधू,
कोई नहीं सुखिया रे,
जन्म लियोड़ा सब दुखिया रे।।



शरणे मंछन्दर जति,

गोरख बोले रे,
रामजी भजे वो ही सुखिया रे,
तनधारी जग में अवधू,
कोई नहीं सुखिया रे,
जन्म लियोड़ा सब दुखिया रे।।

Singer – Prakash Mali Ji
Upload By – BHAVESH JANGID
8769242034


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें