सोई किस्मत को बनाना माँ अम्बे का काम है भजन लिरिक्स

सोई किस्मत को बनाना,
माँ अम्बे का काम है,
बिगड़ी किस्मत को बनाना,
माँ अम्बे का काम है,
बिगड़ी किस्मत को बनाना,
माँ अम्बे का काम है,
रोते को पल में हसाना,
माँ अम्बे का काम है।।

तर्ज – दिल ही दिल में ले लिया।



किस पे कब खुश होंगी मैया,

जानता कोई नहीं,
फूल पतझड़ में खिलाना,
माँ अम्बे का काम है,
रोते को पल में हसाना,
माँ अम्बे का काम है।।



रास्ता मुश्किल हो कितना,

गिरने देती है नहीं,
राहों पे चलना सिखाना,
माँ अम्बे का काम है,
रोते को पल में हसाना,
माँ अम्बे का काम है।।



माँ की ममता नित्य बरसे,

बंदे इस संसार में,
‘ज्योति’ को अपना बनाना,
माँ अम्बे का काम है,
रोते को पल में हसाना,
माँ अम्बे का काम है।।



सोई किस्मत को बनाना,

माँ अम्बे का काम है,
बिगड़ी किस्मत को बनाना,
माँ अम्बे का काम है,
बिगड़ी किस्मत को बनाना,
माँ अम्बे का काम है,
रोते को पल में हसाना,
माँ अम्बे का काम है।।

Singer – Jyoti Sharma


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें