सिद्धियों के लिए श्री गजानंद की वंदना कर रहे है हम लिरिक्स

सिद्धियों के लिए,
श्री गजानंद की,
साधना कर रहे है हम,
वंदना कर रहे है हम।।

तर्ज – जो मेरी रूह को।



सिद्धियों के सदन,

ज्ञान का दान दे,
फिर ना भूले कभी,
ऐसा वरदान दे,
निर्धनों के लिए,
जो दिया है वही,
कामना कर रहे है हम,
साधना कर रहे है हम,
वंदना कर रहे है हम।।



दूब तुम पर चढ़े,

जन करे आरती,
प्रेम पूजा तेरी,
हम करे भारती,
निर्धनों के लिए,
जो दिया है वही,
भावना कर रहे है हम,
Bhajan Diary Lyrics,
साधना कर रहे है हम,
वंदना कर रहे है हम।।



सिद्धियों के लिए,

श्री गजानंद की,
साधना कर रहे है हम,
वंदना कर रहे है हम।।

Singer – Rinku Jha & Party