मेरे सांवरिया सरकार कभी ना छूटे तेरा द्वार लिरिक्स

मेरे सांवरिया सरकार,
कभी ना छूटे तेरा द्वार,
तेरे दर्शन का मन में नशा,
सांवरिया आजा ना अब तरसा।।

तर्ज – मैंने पायल है छनकाई।



मैं तुझको हर दिन देखूं,

मैं तुझको रोज़ मनाऊं,
तू ही मेरे दिल में बसता सांवरा,
मेरे साँवरिया सरकार,
कभी ना छूटे तेरा द्वार,
तेरे दर्शन का मन में नशा,
सांवरिया आजा ना अब तरसा।।



तू ही नैया का माझी,

हारे ने जीती बाज़ी,
संग जो हर दम चलता सांवरा,
मेरे साँवरिया सरकार,
कभी ना छूटे तेरा द्वार,
तेरे दर्शन का मन में नशा,
सांवरिया आजा ना अब तरसा।।



तेरी छाया में अब हम,

सताए ना कोई ग़म,
‘अवि’ के साथ ही रहना सांवरा,
मेरे साँवरिया सरकार,
कभी ना छूटे तेरा द्वार,
तेरे दर्शन का मन में नशा,
सांवरिया आजा ना अब तरसा।।



मेरे सांवरिया सरकार,

कभी ना छूटे तेरा द्वार,
तेरे दर्शन का मन में नशा,
सांवरिया आजा ना अब तरसा।।

Singer – Shreya Singh


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें