प्रथम पेज कृष्ण भजन श्याम तेरी रहमत के सहारे चलता है घर बार मेरा लिरिक्स

श्याम तेरी रहमत के सहारे चलता है घर बार मेरा लिरिक्स

श्याम तेरी रहमत के सहारे,
चलता है घर बार मेरा,
तेरे कारण पल पल हंसता,
सांवरिया परिवार मेरा,
श्याम तेरी रेहमत के सहारे,
चलता है घर बार मेरा।।

तर्ज – फूल तुम्हे भेजा है।



अब ना बचा कुछ मांगने को,

तुमने मुझे बे-हिसाब दिया,
कैसे कहूं सांवरिया तूने,
मेरे लिए क्या क्या ना किया,
इतना दिया मुझे,
जितना नही था,
सांवरिया अधिकार मेरा,
श्याम तेरी रेहमत के सहारे,
चलता है घर बार मेरा।।



मात पिता के जैसे पाला,

हर विपदा तूने टाली है,
सारे जहाँ की खुशियां तूने,
कदमो में मेरे डाली है,
दिन ही बदल गए,
हाथ जो पकड़ा,
तूने तो दिलदार मेरा,
श्याम तेरी रेहमत के सहारे,
चलता है घर बार मेरा।।



जो चाहूँ वो मिलता मुझको,

ना लगता कोई सपना सा,
सुख की बारिश ऐसी करदी,
सब कुछ लगता अपना सा,
‘योगी’ जीते जी ना भूलें,
सांवरिया उपकार तेरा,
श्याम तेरी रेहमत के सहारे,
चलता है घर बार मेरा।।



श्याम तेरी रहमत के सहारे,

चलता है घर बार मेरा,
तेरे कारण पल पल हंसता,
सांवरिया परिवार मेरा,
श्याम तेरी रेहमत के सहारे,
चलता है घर बार मेरा।।

Singer – Akansha Mittal


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।