जय माता दी बोल भगता चिट्ठी माँ की आएगी भजन लिरिक्स

जय माता दी बोल भगता,
चिट्ठी माँ की आएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
दिल से जो पुकारेगा,
देर ना लगाएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
जय माता दीं बोल भगता।।

तर्ज – आदमी मुसाफिर है।



इस ज्योत में वास माँ वैष्णो का,

देखे वो जो दास माँ वैष्णो का,
तू ज्योत से ज्योत मन की मिला ले,
फिर देख परकाश माँ वैष्णो का,
झोली मुरादों से भर जाएगी,
जय माता दीं बोल भगता,
चिट्ठी माँ की आएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
जय माता दीं बोल भगता।।



हर साँस रंग ले तू मैया के रंग में,

गा माँ की भेंटे तू भक्तो के संग में,
तुझपे भी रहमत माँ बरसाएगी,
जय माता दीं बोल भगता,
चिट्ठी माँ की आएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
जय माता दीं बोल भगता।।



एक रात दाती के अर्पण तू कर दे,

सर को झुका के समर्पण तू कर दे,
किस्मत सवेरे संवर जाएगी,
जय माता दीं बोल भगता,
चिट्ठी माँ की आएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
जय माता दीं बोल भगता।।



‘संदीप’ एक दिप ऐसा जला ले,

जिसमे हो विश्वास वाले उजाले,
तुझ पे भी माँ की नजर जाएगी,
जय माता दीं बोल भगता,
चिट्ठी माँ की आएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
जय माता दीं बोल भगता।।



जय माता दी बोल भगता,

चिट्ठी माँ की आएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
दिल से जो पुकारेगा,
देर ना लगाएगी,
जाग जगराते में,
माँ तेरे भाग्य जगाएगी,
जय माता दीं बोल भगता।।

Singer – Sandeep Bansal Ji


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें