श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे दो दिन की जिंदगानी है

श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे,
दो दिन की जिंदगानी है,
जीवन तो निर्झर है बन्दे,
भक्ति इसका पानी है,
श्याम का ध्यान लगा लें बन्दे,
दो दिन की जिंदगानी है,
श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे।।

तर्ज – फूल तुम्हे भेजा है।



तोड़ के सारे बंधन बन्दे,

कीर्तन में तुम आ जाओ,
परमानन्द मिलेगा तुमको,
डुबकी जरा लगा जाओ,
भजते भजते नाम प्रभु का,
तर गए लाखों प्राणी है,
श्याम का ध्यान लगा लें बन्दे,
दो दिन की जिंदगानी है,
श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे।।



माना घर की जिम्मेदारी,

हमको आज निभानी है,
ये भी अपना फर्ज है प्यारे,
वेदों ने भी बखानी है,
ऐसे रहे हम जैसे रहता,
कमल पात पर पानी है,
श्याम का ध्यान लगा लें बन्दे,
दो दिन की जिंदगानी है,
श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे।।



तेरी मेरी करते करते,

मन अपना कंगाल हुआ,
क्या लेकर धरती से आया,
यम पूछेगा सवाल वहां,
लख चौरासी भटक भटक कर,
मानुष काया पानी है,
श्याम का ध्यान लगा लें बन्दे,
दो दिन की जिंदगानी है,
श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे।।



श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे,

दो दिन की जिंदगानी है,
जीवन तो निर्झर है बन्दे,
भक्ति इसका पानी है,
श्याम का ध्यान लगा लें बन्दे,
दो दिन की जिंदगानी है,
श्याम का ध्यान लगा ले बन्दे।।

स्वर – अंजलि जैन।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें