श्री राम की तू जपले रे माला मिलेंगे तुझे हनुमाना

श्री राम की तू जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना,
प्रभु राम की तू जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना,
मिलेंगे तुझे हनुमाना,
श्री राम की तु जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना।।

तर्ज – राधे राधे की जपले तू।



राम के काज ये हरपल बनाए,

राम चरण रज हनुमत को भाए,
राम के नाम का पीते है प्याला,
श्री राम की तु जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना।।



लांघा समुन्दर और सिया सुधि लाए,

बूटी ला लक्ष्मण के प्राण बचाए,
राम भगत ये बड़ा मतवाला,
मेरे राम की तु जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना।।



रावण की लंका में आग लगाई,

राम की महिमा तो सबकी बताई,
भक्तो के सांचे है ये प्रतिपाला,
मेरे राम की तु जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना।।



कलयुग में चाहो जो भव पार जाना,

राम भगत हनुमान को रिझाना,
इनसे बढ़के है भगत निराला,
मेरे राम की तु जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना।।



श्री राम की तू जपले रे माला,

मिलेंगे तुझे हनुमाना,
प्रभु राम की तू जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना,
मिलेंगे तुझे हनुमाना,
श्री राम की तु जपले रे माला,
मिलेंगे तुझे हनुमाना।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें