शिव शम्भू सा निराला कोई देवता नहीं है भजन लिरिक्स

शिव शम्भू सा निराला,
कोई देवता नहीं है,
जैसा भी है डमरू वाला,
कोई देवता नहीं है।।



सर पे बसी है गंगा,

माथे पे चन्द्रमा है,
नंदी की है सवारी,
अर्धांगिनी उमा है,
गले सर्प की है माला,
कोई देवता नहीं है,
जैसा भी है डमरू वाला,
कोई देवता नहीं है।।



अमृत की कामना से,

सब मथ रहे शिवसागर,
निकला है उससे विष जो,
सब पि गए हलाहल,
उस ज़हर को पिने वाला,
कोई देवता नहीं है,
जैसा भी है डमरू वाला,
कोई देवता नहीं है।।



आशा हुई निराशा,

जाए तो किसके द्वारे,
तुझे छोड़ हे महेश्वर,
अब किसको हम पुकारे,
सूना है मन शिवाला,
Bhajan Diary Lyrics,
कोई देवता नहीं है,
जैसा भी है डमरू वाला,
कोई देवता नहीं है।।



शिव शम्भू सा निराला,

कोई देवता नहीं है,
जैसा भी है डमरू वाला,
कोई देवता नहीं है।।

गायिका – प्रियंका सहवाल।

ये भी देखें – भोलेनाथ से निराला कोई।

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें