सरकारों में सबसे बडी सरकार है श्याम भजन लिरिक्स

सरकारों में सबसे बडी सरकार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है,
श्याम सरकार है, खाटू दरबार है,
श्याम सरकार है, खाटू दरबार है,
सरकारो में सबसे बडी सरकार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है।।

तर्ज – काली कमली वाला मेरा यार है।



किस्मत से देता है ज्यादा,

ऐसा है खाटू का राजा -२,
इसके रहते होती कभी ना हार है,
इसके रहते होती कभी ना हार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है,
सरकारो में सबसे बडी सरकार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है।।



शीश दान जो दे सकता है,

बोलो क्या नही कर सकता है -२,
कलयुग का ये सच्चा अवतार है,
कलयुग का ये सच्चा अवतार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है,
सरकारो में सबसे बडी सरकार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है।।



श्याम से बड़ा ना कोई दानी,

तभी तो दुनिया इसकी दीवानी -२,
दोनों हाथ लुटाता ये भंडार है,
दोनों हाथ लुटाता ये भंडार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है,
सरकारो में सबसे बडी सरकार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है।।



किसी की नैया का ये किनारा,

किसी को देता है ये सहारा -२,
‘श्याम’ के जीवन का तू पालनहार है,
‘श्याम’ के जीवन का तू पालनहार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है,
सरकारो में सबसे बडी सरकार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है।।



सरकारों में सबसे बडी सरकार है,

दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है,
श्याम सरकार है, खाटू दरबार है,
श्याम सरकार है, खाटू दरबार है,
सरकारो में सबसे बडी सरकार है,
दरबारों में सबसे बड़ा दरबार है।।

स्वर – श्याम अग्रवाल जी।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें