फागण आया है संदेसा लाया है भजन लिरिक्स

फागण आया है,
संदेसा लाया है,
हर प्रेमी को श्याम प्रभु ने,
दर पे बुलाया है,
फागण आया हैं,
संदेसा लाया है।।

तर्ज – मैं ना भूलूंगा।
इसी तर्ज पे – रह ना पाऊंगा श्याम मैं।



चलो सब खाटू नगरी,

श्याम का मेला आया,
श्याम के दर्शन होंगे,
सोच कर मन हर्षाया,
चंग बजाओ नाचो गाओ,
आनंद छाया है.
हर प्रेमी को श्याम प्रभु ने,
दर पे बुलाया है,
फागण आया हैं,
संदेसा लाया है।।



हाथों में श्याम ध्वजा हो,

लबों पे हो जयकारा,
श्याम की मस्ती में,
झूमे संसार ये सारा,
श्याम कृपा से ये शुभ दिन,
भक्तो ने पाया है,
हर प्रेमी को श्याम प्रभु ने,
दर पे बुलाया है,
फागण आया हैं,
संदेसा लाया है।।



देव ये बड़ा दयालु,

दिल की बातें सुन लेता,
झोलियाँ भक्तों की,
पल में बाबा भर देता,
‘चन्दन’ के ऊपर जो बीती,
सबको बताया है,
Bhajan Diary Lyrics,
हर प्रेमी को श्याम प्रभु ने,
दर पे बुलाया है,
फागण आया हैं,
संदेसा लाया है।।



फागण आया है,

संदेसा लाया है,
हर प्रेमी को श्याम प्रभु ने,
दर पे बुलाया है,
फागण आया हैं,
संदेसा लाया है।।

Singer – Saket Bairoliya


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें