प्रथम पेज राजस्थानी भजन सबसे मीठा बोल रे भाईडा मारा सबसे मीठा बोल भजन लिरिक्स

सबसे मीठा बोल रे भाईडा मारा सबसे मीठा बोल भजन लिरिक्स

सबसे मीठा बोल रे भाईडा मारा,
सबसें मीठा बोल,
दो दिन को जग में जीवनों भाईडा रे,
दो दिन को जग में जीवनों पंछीडा रे।।



दो ही दिनों की होय रे जवानी,

दोई दिना की होय,
तारे पाछे बुढ़ापो आवलो भाईडा रे,
सबसें मीठा बोल रे भाईडा मारा,
सबसें मीठा बोल,
दो दिन को जग में जीवनों भाईडा रे।।



दोई दिना की चमक चांदनी,

दोई दिना की होए,
तारे पाछे अंधेरी रात दी भाईडा रे,
सबसें मीठा बोल रे भाईडा मारा,
सबसें मीठा बोल,
दो दिन को जग में जीवनों भाईडा रे।।



थारे कर्म से हंस बनेलो वीरा,

थारे कर्म से हंस,
घर का बनासी कागलों भाईडा रे,
सबसें मीठा बोल रे भाईडा मारा,
सबसें मीठा बोल,
दो दिन को जग में जीवनों भाईडा रे।।



कह गए दास कबीर भाईडा रे,

कह गए दास कबीर,
अब हर बज उतरे पारसी भाईडा रे,
सबसें मीठा बोल रे भाईडा मारा,
सबसें मीठा बोल,
दो दिन को जग में जीवनों भाईडा रे।।



सबसे मीठा बोल रे भाईडा मारा,

सबसें मीठा बोल,
दो दिन को जग में जीवनों भाईडा रे,
दो दिन को जग में जीवनों पंछीडा रे।।

गायक – रामकुमार जी मालुनि।
प्रेषक – शेरा लाखेरी बूंदी
889 006 8460


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।