प्रथम पेज राजस्थानी भजन ऋतु आया बोले मोरा रे श्याम बिना जीव कोरा रे लिरिक्स

ऋतु आया बोले मोरा रे श्याम बिना जीव कोरा रे लिरिक्स

ऋतु आया बोले मोरा रे,
श्याम बिना जीव कोरा रे,
अरे ऋतु आया बोलें मोरा रे,
म्हारे श्याम बिना जीव कोरा रे,
अरे श्याम बिना जीव कोरा रे,
हरि बिना जीव कोरा रे,
ऋतु आया बोलें मोरा रे,
श्याम बिना जीव कोरा रे।।



अरे दादूर मोर पपैया बोले,

दादूर मोर पपैया बोले,
कोयल करे टिलोरा रे,
कोयल करे टिलोरा रे,
मारा श्याम बिना जीव कोरा रे,
ऋतु आया बोलें मोरा रे,
श्याम बिना जीव कोरा रे।।



घूमड घूमड कर आयी बादली,

नदीयाँ लेवे हिलोरा रे,
अरे घूमड घूमड कर आयी बादली,
नदीयाँ लेवे हिलोरा रे,
मारा श्याम बिना जीव कोरा रे,
ऋतु आया बोलें मोरा रे,
श्याम बिना जीव कोरा रे।।



झिरमिर झिरमिर मेवुडा बरसे,

अरे मारा हिवडा लेवे हिलोरा रे,
अरे झिरमिर झिरमिर मेवुडा बरसे,
मारा हिवडा लेवे हिलोरा रे,
मारा श्याम बिना जीव कोरा रे,
ऋतु आया बोलें मोरा रे,
श्याम बिना जीव कोरा रे।।



चन्द्रसखी भजबाल की शोभा,

अरे चन्द्रसखी भजपाल की शोभा,
आप मिलीया जीव होरा रे,
अरे आप मिलीया जीव होरा रे,
मारा श्याम बिना जीव कोरा रे,
ऋतु आया बोलें मोरा रे,
श्याम बिना जीव कोरा रे।।



ऋतु आया बोले मोरा रे,

श्याम बिना जीव कोरा रे,
अरे ऋतु आया बोलें मोरा रे,
म्हारे श्याम बिना जीव कोरा रे,
अरे श्याम बिना जीव कोरा रे,
हरि बिना जीव कोरा रे,
ऋतु आया बोलें मोरा रे,
श्याम बिना जीव कोरा रे।।

गायक – शंकर जी टाक।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।