अरे हरी भज हरी भज हिरा परख ले भजन लिरिक्स

अरे हरी भज हरी भज हिरा परख ले,
समझ राख मन मजबूती,
साचा सुमिरन करो मालिक रा,
और वार्ता सब झूठी रे हा।।



ए इन्द्र घटाले सतगुरु आया,

अमृत बूंदा हद लुटी,
तिरवेणी रा रंग महल में,
हंसलेलालो हद लूटी,
अरे हरी भज हरी भज हीरा परख ले,
समझ राख मन मजबूती,
साचा सुमिरन करो मालिक,
और वार्ता सब झूठी रे हा।।



इन काया मे पाच चोर है,

जिन री पकड ले सिर चोटी,
पाचो ने पकड पचीस वस करले,
जद जानु थारी रजपूती,
अरे हरी भज हरी भज हीरा परख ले,
समझ राख मन मजबूती,
साचा सुमिरन करो मालिक,
और वार्ता सब झूठी रे हा।।



डावी ईन्गला जीमन पिंगला,

सोजो सुखमना घर बूटी,
एडा भाव भक्ति रा राखे,
दुखडो दूर है दस गुटी,
अरे हरी भज हरी भज हीरा परख ले,
समझ राख मन मजबूती,
साचा सुमिरन करो मालिक,
और वार्ता सब झूठी रे हा।।



नेम धरम री जाज बनावो,

बैठ चलो जती सती पापी,
जीव तो गनो दुख देवे,
एडी मना री करो मती,
अरे हरी भज हरी भज हीरा परख ले,
समझ राख मन मजबूती,
साचा सुमिरन करो मालिक,
और वार्ता सब झूठी रे हा।।



अरे न कोई रेना न कोई कहना,

कोई सुनले सुन कोठी,
गुरु खिमजी रा माली लिखमोजी बोले,
आय भजन री घर कुटी,
अरे हरी भज हरी भज हीरा परख ले,
समझ राख मन मजबूती,
साचा सुमिरन करो मालिक,
और वार्ता सब झूठी रे हा।।



अरे हरी भज हरी भज हिरा परख ले,

समझ राख मन मजबूती,
साचा सुमिरन करो मालिक रा,
और वार्ता सब झूठी रे हा।।

गायक – श्याम पालीवाल जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

मान रे रावण अभिमानी माया रघुवर की ना जानी लिरिक्स

मान रे रावण अभिमानी माया रघुवर की ना जानी लिरिक्स

मान रे रावण अभिमानी, माया रघुवर की ना जानी, कुटी में लक्ष्मण जी होते, प्राण तेरा क्षण में हर लेते।। मैं पत्नी हूँ श्री राम की, वो त्रिलोकी नाथ, किस…

मीराबाई छोड़ो साधुड़ा वालो साथ भजन लिरिक्स

मीराबाई छोड़ो साधुड़ा वालो साथ भजन लिरिक्स

मीराबाई छोड़ो साधुड़ा वालो साथ, साधुड़ा थाने लांछन लगावे जी, जोगीड़ा थाने नरका ले जावे जी, मीराबाई छोड़ो साधुड़ा वालो साथ।। ननंद बाई मुखड़ा सु मीठा बोलो, साधु तरे ने…

हेलो सुनने बाबा वेगा पधारजो रामदेवजी भजन लिरिक्स

हेलो सुनने बाबा वेगा पधारजो रामदेवजी भजन लिरिक्स

हेलो सुनने बाबा वेगा पधारजो, ए हेलो सुनने वेगा पधारजो, बाबा दीजो भगत ने गेलो, बाबा दीजो भगत ने गेलो, म्हारा राज कंवर थाने हेलो, म्हारा राज कंवर थाने हेलो…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “अरे हरी भज हरी भज हिरा परख ले भजन लिरिक्स”

  1. श्याम पालीवाल साहब के भजन ओर उनकी सुरीली आवाज़ का में कायल हूं।
    राजस्थान के देशी भजन ओर आपकी गायक़ी बहुत ही अच्छी हैं।।

    Reply

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे