रजा क्या है तेरी मोहन क्यूँ इतना आज़माते हो लिरिक्स

रजा क्या है तेरी मोहन,
क्यूँ इतना आज़माते हो,
क्यूँ इतना आज़माते हो,
क्यूँ इतना आज़माते हो,
रजा क्या हैं तेरी मोहन,
क्यूँ इतना आज़माते हो।bd।
raza kya hai teri mohan kyo itna aazmate ho
तर्ज – सजा दो घर को।



गुजरती क्या है यह सोचो,

तुम्हारे बिन दीवाने पे,
नज़र अंदाज ना करना,
नज़र अंदाज ना करना,
रहम दिल तुम कहाते हो,
रजा क्या हैं तेरी मोहन,
क्यूँ इतना आज़माते हो।bd।



सितमगर ना बनो इतने,

जुल्म इतना नहीं ढाओ,
पुजारी प्रेम के होकर,
पुजारी प्रेम के होकर,
बहाने क्यों बनाते हो,
Bhajan Diary Lyrics,

रजा क्या हैं तेरी मोहन,
क्यूँ इतना आज़माते हो।bd।



ज़माने की हवाओं से,

दुखी है आज ये सारे,
अरज है दास ‘सांवर’ की,
अरज है दास ‘सांवर’ की,
झलक क्यों ना दिखाते हो,
रजा क्या हैं तेरी मोहन,
क्यूँ इतना आज़माते हो।bd।



रजा क्या है तेरी मोहन,

क्यूँ इतना आज़माते हो,
क्यूँ इतना आज़माते हो,
क्यूँ इतना आज़माते हो,
रजा क्या हैं तेरी मोहन,
क्यूँ इतना आज़माते हो।bd।

Singer – Aman Shivam


पिछला भजनतेरी चौखट पे ऐ श्याम प्यारे सर हमारा झुका ही रहेगा लिरिक्स
अगला भजनशहेरिये में बाज रही बीन बंशी डूंगर पूरी जी भजन

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें