थारो बीरा रंग मोए रंग मिल जाय गुणा री जोड़ी नही मिले

थारो बीरा रंग मोए रंग मिल जाय,
गुणा री जोड़ी नही ओ मिले,
थारो भिरा रंग मोए रंगेओ मिलजाय,
लखना री जोड़ी नाही ओ मिले।।



हंशा भुग्ला एक भरेम रा,

बैठे एकन्न तीर,
अरे रामजी बेटे एकन तीर,
अरे हनशा तो मोती चुगेरे,
ये भुगिलाई मंछलियो घटकई,
लखना री जोड़ी नाही ओ मिले।।



कोयल कागा एक भरम रा,

बेटे एकन्न डाल,
कड़वा बोले कागलीयो,
ये कड़वो बोले कागलयो,
ये कोयल मिठा शब्द सुनाई,
भिरा शब्द सुनाई,
गुणा री जोड़ी नाही ओ मिले।।



हल्दी केसर एक ही रंगरी,

बीके एकन हाट,
हल्दी केसर एक भरण रीे,
बीके एकन हाट,
हल्दी तो सागा में पडसी,
अरे केसर तिलक लगाई,
गुणा री जोड़ी नाही ओ मिले।।



काहे कबीर सा सुनो भाई संतो,

तेपद है निर्वाण,
अरे रामजी तेपद है निर्वाण,
इन पदा री करे खोजना,
वही चतुर सुजान,
गुणा री जोड़ी नाही ओ मिले।।



थारो बीरा रंग मोए रंग मिल जाय,

गुणा री जोड़ी नही ओ मिले,
थारो भिरा रंग मोए रंगेओ मिलजय,
लखना री जोड़ी नाही ओ मिले।।

गायक – महेंद्र जी बोयल।
Upload By – Naresh
9008061648


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें