प्रथम पेज राधा-मीराबाई भजन राधा रानी दया करके बरसाना बसा लेना भजन लिरिक्स

राधा रानी दया करके बरसाना बसा लेना भजन लिरिक्स

राधा रानी दया करके,
बरसाना बसा लेना,
चरणों में श्यामाजू,
थोड़ी सी जगह देना,
राधा रानी दया करकें,
बरसाना बसा लेना।।



संसारिक दौलत की,

मुझे कुछ भी चाह नही,
शौहरत और जन्नत की,
कोई परवाह नही,
दो बूंदे रहमत की,
दो बूंदे रहमत की,
मुझ पर बरसा देना,
राधा रानी दया करकें,
बरसाना बसा लेना।।



भटके हुऐ भगतों का,

विश्वास तुम्ही तो हो,
‘पागल’ जैसे रसिकों की,
ईक आस तुम्ही तो हो,
चरणों से लगाकर के,
चरणों से लगाकर के,
जो चाहे सजा देना,
राधा रानी दया करकें,
बरसाना बसा लेना।।



तेरी याद ने श्यामाजू,

मुझे कितना रुलाया है,
जग ढूंढ लिया सारा,
कहीं चैन ना पाया है,
‘मामा’ को चौखट का,
‘मामा’ को चौखट का,
कुत्ता ही बना लेना,
राधा रानी दया करकें,
बरसाना बसा लेना।।



राधा रानी दया करके,

बरसाना बसा लेना,
चरणों में श्यामाजू,
थोड़ी सी जगह देना,
राधा रानी दया करकें,
बरसाना बसा लेना।।

– गायक एवं प्रेषक –
रसिक पागल मामा।
9991515880


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।