बनसा आइगी आखा तीज राजस्थानी विवाह गीत लिरिक्स

ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,
सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा आइगी आखा तीज,
बनसा अइगी आखा तीज।।



ए रे बनसा पडला मे म्हारे,

चुडला लायजो,
पेरू सहेलीया रे साथ,
बनसा अइगी आखा तीज,
ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,
सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा अइगी आखा तीज।।



ए रे बनसा वरिया मे म्हारे,

झरिया लायजो,
पेरू सहेलीया रे साथ,
बनसा अइगी आखा तीज,
ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,
सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा अइगी आखा तीज।।



ए रे बनसा मारूति मे आइजो,

थे तो गाडियाँ लायजो बीस,
बनसा अइगी आखा तीज,
ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,
सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा अइगी आखा तीज।।



ए रे बनसा चवरिया मांडी चौक में,

सहेलीया गावे गीत,
बनसा अइगी आखा तीज,
ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,
सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा अइगी आखा तीज।।



ए रे बनसा बाबोसा रे लाडली,

काकोसा दीनी सीख,
बनसा अइगी आखा तीज,
ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,
सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा अइगी आखा तीज।।



ए रे बनसा बांधीया काकन डोरा,

म्हारे मेहन्दी राची हाथ,
बनसा अइगी आखा तीज,
ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,
सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा अइगी आखा तीज।।



ए रे बनसा ज्येष्ठ मायने,

सावो निकल्यो,
गावु घनेरा गीत,
बनसा आइगी आखा तीज,
बनसा अइगी आखा तीज।।

गायक – सरिता जी खारवाल।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें