पुकारे काला काला नाम गुजरी वृंदावन के धाम लिरिक्स

पुकारे काला काला नाम,
गुजरी वृंदावन के धाम,
गुजरी वृंदावन के धाम,
गुजरी वृंदावन के धाम,
पुकारें काला काला नाम,
गुजरी वृंदावन के धाम।bd।

देखे – काला काला कहवे गुजरी।



यमुना के तट बैठी गुजरी,

मन में ध्यान लगाया,
देख छवि प्यारे मोहन की,
ऐसा मन हर्षाया,
यमुना की लहरो में दिख गए,
मुरली वाले श्याम,
पुकारें काला काला नाम,
गुजरी वृंदावन के धाम।bd।



मोर मुकुट छवि प्यारी लागे,

ऐसा रूप बनाया,
श्याम वरन मुख चंद्रमा सा,
मेरे मन को भाया,
फूलों और पतियन में दिख गए,
मुरली वाले श्याम,
पुकारें काला काला नाम,
गुजरी वृंदावन के धाम।bd।



कभी ग्वाला कभी कन्हैया,

नये नये रूप दिखाता,
मैं देखूं जिस ओर सखि री,
कन्हैया नजर में आता,
गऊओ ओर बछड़ो में दिख गए,
मुरली वाले श्याम,
पुकारें काला काला नाम,
गुजरी वृंदावन के धाम।bd।



जब जब भीड़ पड़ी भगता पे,

आ पहुँचे गिरधारी,
‘शक्ति’ की भी अर्ज सुनो तुम,
आओ कृष्ण मुरारी,
भगतो के ह्रदय में बस गए,
मुरली वाले श्याम,
पुकारें काला काला नाम,
गुजरी वृंदावन के धाम।bd।



पुकारे काला काला नाम,

गुजरी वृंदावन के धाम,
गुजरी वृंदावन के धाम,
गुजरी वृंदावन के धाम,
पुकारें काला काला नाम,
गुजरी वृंदावन के धाम।bd।

स्वर – साध्वी शक्तिपुरी जी।
प्रेषक – पवन सिंघल।
8607460571


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें