प्रकट भई भानु लली सखी आज भजन लिरिक्स

प्रकट भई भानु लली सखी आज,
बिरज में है रही जय जयकार।

दोहा – भादो अष्टमी शुभ दिन आयो,
सभी रसिकन को मन हर्षायो,
प्रगट भई मोहन मन हरनी,
ब्रज मंडल में आनंद छायो।



प्रकट भई भानु लली सखी आज,

बिरज में है रही जय जयकार,
है रही जय जयकार,
बिरज में छाई खुशी अपार,
प्रगट भई भानु लली सखी आज,
बिरज में है रही जय जयकार।।



बरसाने चलो भानु द्वारे,

देन बधाई ब्रजवासी पधारे,
लागे रसिक समाज,
बिरज में है रही जय जयकार,
है रही जय जयकार,
बिरज में छाई खुशी अपार,
प्रगट भई भानु लली सखी आज,
बिरज में है रही जय जयकार।।



सब नाचे औरो को नचावे,

देख लली मुख बलि बलि जावे,
बाजे सबरे साज़,
बिरज में है रही जय जयकार,
है रही जय जयकार,
बिरज में छाई खुशी अपार,
प्रगट भई भानु लली सखी आज,
बिरज में है रही जय जयकार।।



बरसाने का मंगल नज़ारा,

मंगल हरपल मंगल सहारा,
पूरण भए सब काज,
बिरज में है रही जय जयकार,
है रही जय जयकार,
बिरज में छाई खुशी अपार,
प्रगट भई भानु लली सखी आज,
बिरज में है रही जय जयकार।।



‘गोपाली’ बन पागल बावरी,

बसन चली बरसाना गाँव री,
जहाँ रसिकन सिरताज,
बिरज में है रही जय जयकार,
है रही जय जयकार,
बिरज में छाई खुशी अपार,
प्रगट भई भानु लली सखी आज,
बिरज में है रही जय जयकार।।



प्रगट भई भानु लली सखी आज,

बिरज में है रही जय जयकार,
है रही जय जयकार,
बिरज में छाई खुशी अपार,
प्रगट भई भानु लली सखी आज,
बिरज में है रही जय जयकार।।

स्वर – श्री श्यामा दासी।


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

श्याम रंग में रंग गई राधा भूली सुध बुध सारी रे भजन लिरिक्स

श्याम रंग में रंग गई राधा भूली सुध-बुध सारी रे भजन लिरिक्स

श्याम रंग में रंग गई राधा, भूली सुध-बुध सारी रे, राधा के मन में, बस गए श्याम बिहारी।। श्याम नाम की चुनर ओढ़ी, श्याम नाम की चुडीयाँ, अंग अंग में…

श्यामा जू की पायल के घुँघरू नृत्य करत में बिखर गए लिरिक्स

श्यामा जू की पायल के घुँघरू नृत्य करत में बिखर गए लिरिक्स

श्यामा जू की पायल के घुँघरू, नृत्य करत में बिखर गए, प्यारी जू की पायल के घुँघरू, नृत्य करत में बिखर गए।। नव निकुञ्ज में नृत्य करे दोऊ, प्रीतम संग…

श्री श्याम से मिला दे मुझको भी प्यारी राधे लिरिक्स

श्री श्याम से मिला दे मुझको भी प्यारी राधे लिरिक्स

श्री श्याम से मिला दे, मुझको भी प्यारी राधे। दोहा – राधे दिखती श्याम में, और राधे में श्याम, कृष्ण मिलन की आस हो, तो ले राधे को नाम। श्री…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे