प्रथम पेज आरती संग्रह पिछम धरा सु म्हारा पीरजी पधारिया रामदेवजी आरती

पिछम धरा सु म्हारा पीरजी पधारिया रामदेवजी आरती

पिछम धरा सु म्हारा पीरजी पधारिया,
घर अजमल अवतार लियो,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



घिरत मिठाई बाबा चढे थारे चुरमो

धूपा री झंकार उड़े,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



गंगा रे जमना बाबा बहे रे सरस्वती,

रामदेवजी बाबो स्नान करे,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



दूर देशारा आवे थारे यात्रु,

बावजी री दर्गा आगे निवन करे,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



ढोल नगाड़ा धणी रे नोबत बाजे,

झालर री जनकार पड़े
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



खम्मा खम्मा खम्माओ कंवर अजमाल रा,

घर अजमल अवतार लियो,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



हरी शरणा में भाटी हरजी बोले,

नवखंडो में निशान घुंरे,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



वारी वारी रे कंवर तपधारी,

जग में ज्योत सवाई जियो,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।



पिछम धरा सु म्हारा पीरजी पधारिया,

घर अजमल अवतार लियो,
लाछा सुगना करे हरी री आरती,
हरजी भाटी उबा चवर ढोले,
वैकुंठा में बाबा होवे थारी आरती।।

“श्रवण सिंह राजपुरोहित द्वारा प्रेषित”
सम्पर्क : +91 9096558244


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।