पिछम री धरती सु मारो आलम राजा आवे जी भजन लिरिक्स

पिछम री धरती सु मारो आलम राजा आवे जी भजन लिरिक्स

पिछम री धरती सु मारो,
आलम राजा आवे जी,
पिछम धरा सु मारो,
अनेक राजा आवे,
भगता रो भिड़ु आवे,
बाबा रामदेवजी आवे,
ओ धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोडे वालो,
रामदेव जियो।।



पेलो पेलो परचो पिता,

अजमल जी दिनो जी,
अरे कुंकुम रा पगल्या मंडाया,
रामाधनीया जियो,
ए पिछरंग बागे वालो,
भगता रो राम रूकालो,
ए दुष्टा ने मारनवालो,
रामाधनीया जियो।।



अरे दूजो दूजो परचो माता,

मैणादे ने दिनो ओ,
अरे ऊपनतोडो दूध डबायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे तीजो तीजो परचो रूपा,

दरजीजी ने दिनो जी,
अरे कपड़े रो घोडल्यो उडायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे चौथो चौथो परचो लाखु,

बिन्जारा दिनो जी,
अरे मीसरी रो लूण बनायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे पाचवो तो परचो पाचु,

पीरा ने दिनो जी,
अरे मक्का सु कटोरा मंगाया,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे छठो छठो परचो बाई,

सुगना ने दिनो जी,
अरे मरीयोडा भानु ने जीवायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे सातवो तो परचो सेठ,

मोहिता ने दिनो जी,
अरे समंदा सु जहाज़ तिराई,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे हरी रे चरणों में भाटी,

हरजी यु बोल्या जी,
मारे बाने री लजीया राखो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



पिछम री धरती सु मारो,

आलम राजा आवे जी,
पिछम धरा सु मारो,
अनेक राजा आवे,
भगता रो भिड़ु आवे,
बाबा रामदेवजी आवे,
ओ धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोडे वालो,
रामदेव जियो।।

स्वर – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें