पिछम री धरती सु मारो आलम राजा आवे जी भजन लिरिक्स

पिछम री धरती सु मारो,
आलम राजा आवे जी,
पिछम धरा सु मारो,
अनेक राजा आवे,
भगता रो भिड़ु आवे,
बाबा रामदेवजी आवे,
ओ धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोडे वालो,
रामदेव जियो।।



पेलो पेलो परचो पिता,

अजमल जी दिनो जी,
अरे कुंकुम रा पगल्या मंडाया,
रामाधनीया जियो,
ए पिछरंग बागे वालो,
भगता रो राम रूकालो,
ए दुष्टा ने मारनवालो,
रामाधनीया जियो।।



अरे दूजो दूजो परचो माता,

मैणादे ने दिनो ओ,
अरे ऊपनतोडो दूध डबायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे तीजो तीजो परचो रूपा,

दरजीजी ने दिनो जी,
अरे कपड़े रो घोडल्यो उडायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे चौथो चौथो परचो लाखु,

बिन्जारा दिनो जी,
अरे मीसरी रो लूण बनायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे पाचवो तो परचो पाचु,

पीरा ने दिनो जी,
अरे मक्का सु कटोरा मंगाया,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे छठो छठो परचो बाई,

सुगना ने दिनो जी,
अरे मरीयोडा भानु ने जीवायो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे सातवो तो परचो सेठ,

मोहिता ने दिनो जी,
अरे समंदा सु जहाज़ तिराई,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



अरे हरी रे चरणों में भाटी,

हरजी यु बोल्या जी,
मारे बाने री लजीया राखो,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोड़े वालो,
रामदेव जियो।।



पिछम री धरती सु मारो,

आलम राजा आवे जी,
पिछम धरा सु मारो,
अनेक राजा आवे,
भगता रो भिड़ु आवे,
बाबा रामदेवजी आवे,
ओ धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
धोली ध्वजा फरूकावे,
रामाधनीया जियो,
ए लीले छतरी वालो,
ए धोली ध्वजा वालो,
ए लीले घोडे वालो,
रामदेव जियो।।

स्वर – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

मत बांधो गठरिया अपयश की भजन लिरिक्स

मत बांधो गठरिया अपयश की भजन लिरिक्स

मत बांधो गठरिया अपयश की, अपयश रे पराये जस की, मत बांधो गठरिया अपयश की।। बालपणो हस खेल गवायो, बीती उमरिया दिन दस की, मत बांधो गठरिया अपयश की।। यम…

हे बनवारी आज मायरो भरजा नैनीबाई रो भजन लिरिक्स

हे बनवारी आज मायरो भरजा नैनीबाई रो भजन लिरिक्स

हे बनवारी आज मायरो, भरजा नैनीबाई रो। छोड आसरो और आसरो, लिनो कृष्ण कनायी को, हें बनवारी आज मायरो, भरजा नैनीबाई रो, छोड आसरो ओर आसरो, लिनो कृष्ण कनायी को,…

शिव शंकर बाबो अमलिडो भजन लिरिक्स

शिव शंकर बाबो अमलिडो भजन लिरिक्स

शिव शंकर बाबो अमलिडो, भांगडली घोटाय, भोला नाथ रे चढ़ाऊँ रे, अमला माई लहरा लेतो, जावे बाबो अमलिडो, भागंड़ भोलो नाथ रे, शिव शंकर बाबो अमलिडो।। माली जी फुलवारी सूं,…

हालो हालो म्हारा दीनदयाल म्हारे घर हालोनी लिरिक्स

हालो हालो म्हारा दीनदयाल म्हारे घर हालोनी लिरिक्स

हालो हालो म्हारा दीनदयाल, म्हारे घर हालोनी। दोहा – रामा सामा आवजो, ने कलजुग बहत करूर, अरज करूँ अजमाल रा, हेलो साम्भलजो नी हुज़ूर। हालो हालो म्हारा दीनदयाल, रूनीचे रा…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “पिछम री धरती सु मारो आलम राजा आवे जी भजन लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे