पकड़ो मेरा हाथ चलना साथ साथ श्याम भजन लिरिक्स

पकड़ो मेरा हाथ चलना साथ साथ,
ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र।।

तर्ज – आ जा आई बहार।



तुमसा अगर हो जिसका खिवैया,

डूबेगी कैसे जीवन की नैय्या,
करते करामात चलना साथ साथ,
ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र,
पकड़ों मेरा हाथ चलना साथ साथ,
ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र।।



खुद को मैं सौंपा तुझको मुरारी,

तुझपे है मेरी श्याम ज़िम्मेदारी,
सुनले मेरी बात चलना साथ साथ,
ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र,
पकड़ों मेरा हाथ चलना साथ साथ,
ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र।।



सुख दुःख में हर पल साथ निभाना,

बदले ज़माना बदल तुम ना जाना,
‘कुंदन’ के हो नाथ चलना साथ साथ,
ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र,
पकड़ों मेरा हाथ चलना साथ साथ,
ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र।।



पकड़ो मेरा हाथ चलना साथ साथ,

ओ मेरे दीनानाथ बनके तू हमसफ़र।।

Singer – Gouri Agarwal


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें