पगल्या में थोड़ी पायल पेरले कानुड़ो नचावे राधा नाचले

पगल्या में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले,
नाचले रे राधा नाचले रे,
नाचले रे राधा नाचले रे,
पगलया में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले।।



घेर गुमारो पहरे घागरो,

ठोकर सु ठुकरावे,
गुजरी ठोकर सु ठुकरावे,
हाथा माए हरी हरी चुड़िया,
नेनासु भरमावे,
पगलया में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले।।



माथे पे बेवड़लो गुजरी,

चाल चले मतवाली,
गुजरी चाल चले मतवाली,
बैठ कदम की डाल कन्हैयो,
फोड़े मटकिया सारी,
पगलया में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले।।



साथ में है सखिया सारी,

जल जमना में जावे,
देखलो जल जमना में जावे,
नखरालो ओ कवर कन्हैया,
लारे लारे आवे,
पगलया में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले।।



वृंदावन की कुञ्ज गली में,

कान्हो रास रचावे रे,
देखो कान्हो रास रचावे,
गोपिया राधा घर सु,
दोड़ी दोड़ी आवे,
पगलया में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले।।



सावली सूरत मोहनी मूरत,

मुरली मधुर बजावे,
कान्हजी मुरली मधुर बजावे,
चंद्रसखी जे बोले या तो,
थारा ही गुण गावे,
पगलया में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले।।



पगल्या में थोड़ी पायल पेरले,

कानुड़ो नचावे राधा नाचले,
नाचले रे राधा नाचले रे,
नाचले रे राधा नाचले रे,
पगलया में थोड़ी पायल पेरले,
कानुड़ो नचावे राधा नाचले।।

प्रेषक – सुभाष सारस्वत काकड़ा
9024909170


इस भजन को शेयर करे:

सम्बंधित भजन भी देखें -

कल्याण धणी का मेला में झांको कांई लुल लुल नाचो जी

कल्याण धणी का मेला में झांको कांई लुल लुल नाचो जी

झांको कांई लुल लुल नाचो जी, कल्याण धणी का मेला में, मेला मे मेला मे, झांको कांई लुल लुल नाचो जी, कल्याण धणी का मेला मे।। डीग्गी पुरी मे कल्याण…

म्हारो बाबो रूणिचा भल आविया रे रामदेवजी भजन लिरिक्स

म्हारो बाबो रूणिचा भल आविया रे रामदेवजी भजन लिरिक्स

म्हारो बाबो रूणिचा, भल आविया रे। दोहा – धिन धणी धीन देवरों, धना रूणिचा गांव, लीले चढ़े ने आवजो, रूणिचा रा श्याम। काशी मथुरा सु मोहन, आविया रे राम, हे…

गणपत सुरसत शारद सिमरू गुरु मिल्या ब्रह्मज्ञानी

गणपत सुरसत शारद सिमरू गुरु मिल्या ब्रह्मज्ञानी

गणपत सुरसत शारद सिमरू, दीजो अनुभव वाणी हा, परसत परसत पीर परसीया, परखी पीरो री निसोणी संतो, गुरु मिल्या ब्रह्मज्ञानी, ग्यान सुनाय कियो हरी नेड़ो, बात अगम री जोणी रे…

आ गयो सावन महिनों आ गयो भोलेनाथ रे भजन लिरिक्स

आ गयो सावन महिनों आ गयो भोलेनाथ रे भजन लिरिक्स

आ गयो आ गयो सावन महिनों, आ गयो भोलेनाथ रे, लहरा लेवें रे भोलानाथ जी, लहरा लेवें रे भोलानाथ जी, भोलो प्यारो रे, त्रिशूलधारी रे, डमरू वालों रे।। अरे भोलेनाथ…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे