प्रथम पेज राजस्थानी भजन ओ रामदेव कुंकुम रा पगल्या मांड्या भजन लिरिक्स

ओ रामदेव कुंकुम रा पगल्या मांड्या भजन लिरिक्स

ओ रामदेव कुंकुम रा पगल्या मांड्या,
ओ रामदेव कंकु रा पगल्या मांड्या,
लिनो अजमल घर अवतार रामदेव,
बीज भादरवा री आविया ओ,
हेलो वार तो ओ शनिवार रामदेव,
कलयुग रा अवतार ओ जी।।



ओ रामदेव पालनीया आ प्रगटीया,

ओ रामदेव पालनीया मे प्रगटीया,
बाजी झांजर री झनकार मैणादे,
देख अचंभो खावीयो ओ जी,
किना अजमल ने समाचार,
पालने एडो बालकीयो आवियो ओ जी।।



ओ अजमल कुंकुम रा पगल्या देखने,

ओ अजमल कुंकुम रा पगल्या देखने,
कर नमन केवे सुन नार बालक ओ,
दुजो नही कोई आवियो ओ जी,
ओ तो विष्णु रो अवतार आंगनीया,
नाथ द्वारिका रा आविया ओ जी।।



ओ मोटा तो विरमदेव ने छोटा रामदेव,

ओ मोटा तो विरमदेव ने छोटा रामदेव,
खेले जोडे राजकुमार अजमल,
मैणादे हर्षाविया जी,
गाया घर घर मंगला चार बाया ओ,
राम लखन घर आविया ओ जी।।



ओ अजमल किनी भगती साचोडी,

ओ अजमल किनी भगती साचोडी,
पायो पुत्र रत्न भगवान भाई ओ,
धिन धिन भगती अजमलजी री,
करे “लाल सिंह” प्रणाम भाई ओ,
जय जय रामापीर जी ओ।।



ओ रामदेव कुंकुम रा पगल्या मांड्या,

ओ रामदेव कंकु रा पगल्या मांड्या,
लिनो अजमल घर अवतार रामदेव,
बीज भादरवा री आविया ओ,
हेलो वार तो ओ शनिवार रामदेव,
कलयुग रा अवतार ओ जी।।

गायक – महेंद्र सिंह जी राठौर।
प्रेषक – मनीष सीरवी।
(रायपुर जिला पाली राजस्थान)
9640557818


कोई टिप्पणी नही

आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।