लागा नहीं शब्द रा तीर फकीरी भजन लिरिक्स

लागा नहीं शब्द रा तीर,
जिनके बाण लग्या गुरु गम रा,
मार लिया मन मीर,
फकीरी लागा नही शब्द रा तीर।।



आठों ही पोर दुनिया ने लूटे,

सुख भोगे शरीर,
आठो पहर माया से यारी,
बन बैठा पंच पीर,
फकीरी लागा नही शब्द रा तीर।।



भगवा रंगिया मन नहीं रंगिया,

चूट रया सब वीर,
एक घर छोड़ असंग घर पकड़िया,
नहीं बुध्दि नहीं धीर,
फकीरी लागा नही शब्द रा तीर।।



भीतर में है कर्मो रा कीड़ा,

बाहर होयो फकीर,
ए तो हाल फकीरा रा झूठा,
कांई करोला थे जीर,
फकीरी लागा नही शब्द रा तीर।।



धिन सुखराम मिलिया गुरु पूरा,

योगी मस्त फ़क़ीर,
विकट खेल खेले कोई शूरा,
ईसर रहणा सदीर,
फकीरी लागा नही शब्द रा तीर।।



लागा नहीं शब्द रा तीर,

जिनके बाण लग्या गुरु गम रा,
मार लिया मन मीर,
फकीरी लागा नही शब्द रा तीर।।

गायक – श्यामदास वैष्णव।
प्रेषक – रामेश्वर लाल पँवार, आकाशवाणी सिंगर।
9785126052


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

भगता में मस्ती छाई रूत बाबे सु मिलण री आई

भगता में मस्ती छाई रूत बाबे सु मिलण री आई

भगता में मस्ती छाई, रूत बाबे सु मिलण री आई, नगाड़ा-2 बाजन लाग्या ऐ, जयकारा गुंजण लाग्या ऐ, म्हारा जाग्या पूर्वला भाग, बुलावो बाबे रो आयो रे।। बित गई सावण…

जग पालनहारा नाथ कृपा घनश्याम की लिरिक्स

जग पालनहारा नाथ कृपा घनश्याम की लिरिक्स

जग पालनहारा, नाथ कृपा घनश्याम की, आ धरती है प्रभु, भगत वत्सल भगवान की।। तर्ज – हम कथा सुनाते राम सकल। धोरा धरती मरूधर भूमि, आवे देवता इन धरती पे,…

मेहंदी माताजी रे मन भाई मेहंदी राचणी राजस्थानी भजन

मेहंदी माताजी रे मन भाई मेहंदी राचणी राजस्थानी भजन

मेहंदी माताजी रे मन भाई, मेहंदी राचणी, मेहंदी रा हरिया हरिया पान, मेहंदी राचणी।। माताजी चित्तोरगढ विराजे, मेहंदी राचणी, मेहंदी सोजत री मंगवाई हो, मेहंदी राचणी, मेहंदी माता जी रे…

हे हैदराबाद में धाम आईजी रो कहावे भजन लिरिक्स

हे हैदराबाद में धाम आईजी रो कहावे भजन लिरिक्स

हे हैदराबाद में धाम आईजी रो कहावे, भगतो रे मन भावे, बीरा शमशाबाद रे माय आईजी बिराजे, जटे ढोल नगाड़ा नोपत घेरी बाजे, हे बिलाड़ा में ज्योत जागती थोरी, ओ…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे