ओ जी सुगना रा बीर ओ जी लाछा रा बीर लिरिक्स

ओ जी सुगना रा बीर,
ओ जी लाछा रा बीर,
थाने आनो पड़सी,
अर्ज सुनो म्हारी हे धणिया,
म्हारी आन निभानी पड़सी जी।।



दुनिया बेरन ताना मारे,

मैं निर्धनियो जाऊं कठे,
ठोकर खातो फिरूँ भटकतो,
थारी शरण बिना जाऊं कठे,
ओ जी सुगना रां बीर,
ओ जी लाछा रा बीर।।



आंसूड़ा के मोतीडा सू,

भगत बाबा थारा चरण पखारे,
बिनती करे अंतस को पंछी,
थाने उड़ीके सांझ सकारे,
ओ जी सुगना रां बीर,
ओ जी लाछा रा बीर।।



मनड़े री बाता बाबा थे ही जानो,

हिवड़े री पीड़ा धनिया थे पहचानो,
बेगा आओ बाट निहारू,
म्हारो ना और कोई ठिकानो,
ओ जी सुगना रां बीर,
ओ जी लाछा रा बीर।।



डाली बाई री भगति पूरबली,

भगती रो दीवालो आप जगायो,
नाथ अनाथा रा नाथ रामदेव,
यो ही नाम हिवडे में समायो,
ओ जी सुगना रां बीर,
ओ जी लाछा रा बीर।।



हरजी हरजस थारा गाया,

रोम रोम में थे ही समाया,
काया माया रो भरम टूट ग्यो,
थे मिलग्या तो हरक मनाया,
ओ जी सुगना रां बीर,
ओ जी लाछा रा बीर।।



ओ जी सुगना रा बीर,

ओ जी लाछा रा बीर,
थाने आनो पड़सी,
अर्ज सुनो म्हारी हे धणिया,
म्हारी आन निभानी पड़सी जी।।

गायक – सतीश जी देहरा।
प्रेषक – धनाराम खोजा खङकाली (नागौर)


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

मैं मस्ताना सकल दीवाना पाव पलक री है भगति

मैं मस्ताना सकल दीवाना पाव पलक री है भगति

मैं मस्ताना सकल दीवाना, पाव पलक री है भगति, हीरो हेरिया हीरो हाथ नही आवे, शीश उतार लड़ो कुश्ती।। राजा शिवरे प्रजा शिवरे, परघर शिवरे पार्वती, शेष पियाला राजा बाशग…

चाल भाईडा चाला आपा नाडोल गढ़ रा मेला में

चाल भाईडा चाला आपा नाडोल गढ़ रा मेला में

चाल भाईडा चाला आपा, नाडोल गढ़ रा मेला में, आशापुरी जी रा दर्शन करस्या, नाडोल गढ़ रा मेला में, आशापुरी जी रा दर्शन करस्या, नाडोल गढ़ रा मेला में।। नाडोल…

मनवा राम सुमर मेरे भाई रे राजस्थानी भजन लिरिक्स

मनवा राम सुमर मेरे भाई रे राजस्थानी भजन लिरिक्स

मनवा राम सुमर मेरे भाई रे, सुमरिया बिना मुक्ति नहीं होवे, भवजल गोता खाई रे, मनवा राम सुमर मेरे भाई।। लक चौरासी में भटकत भटकत, अब के मनुष्य तन पाई…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे