नुगरा रे मुंडे राम नी आवे केसर गुल गई गारा में

नुगरा रे मुंडे राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा में,
पापी रे मुखड़े राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा मे,
मोनको जमारो एडो मती खोवो,
सुखरत करलो जमारा में ए हा।।



भैस पद्मनी ने हार पेहरायो,

आ कई जाने हारा मे,
भैस पद्मनी ने हार पहरायो,
आ कई समझे हारा मे,
ओड नी जाने पेरनी जाने,
जन्म गमायो गारा मे,
ओड नी जाने पेरनी जाने,
जन्म गमायो गारा मे,
नूगरा रे मुंडे राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा में,
पापी रे मुखड़े राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा मे,
मोनको जमारो एडो मती खोवो,
सुखरत करलो जमारा में ए हा।।



काच महल में कुती सुलाई,

रंग महल चोबारा मे,
काच महल में कुती सुलाई,
रंग महल चोबारा मे,
एक कांच में दोई दोई कुतीया,
बुस बुस मरगी जमारा मे,
एक काच में दोई दोई कुतीया,
बुस बुस मरगी जमारा मे,
नूगरा रे मुंडे राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा में,
पापी रे मुखड़े राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा मे,
मोनको जमारो एडो मती खोवो,
सुखरत करलो जमारा में ए हा।।



हिरो ले मूर्ख ने दिनो,

दलवा बैठो सारा मे,
हिरो ले मुर्ख ने दिनो,
दलवा बैठो सारा मे,
हिरा री गत जवेरी जाने,
कई खबर है गवारा ने,
हिरा री गत जवेरी जाने,
कई खबर है गिवारा ने,
नूगरा रे मुंडे राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा में,
पापी रे मुखड़े राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा मे,
मोनको जमारो एडो मती खोवो,
सुखरत करलो जमारा में ए हा।।



शील धर्म तो आदु मारे,

दया धर्म तलवारो मे,
अमरनाथ संतो रे शरने,
जीत गयो जमद्वारा मे,
अमरनाथ संतो रे शरने,
जीत गयो जमद्वारा मे,
नूगरा रे मुंडे राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा में,
पापी रे मुखड़े राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा मे,
मोनको जमारो एडो मती खोवो,
सुखरत करलो जमारा में ए हा।।



नुगरा रे मुंडे राम नी आवे,

केसर गुल गई गारा में,
पापी रे मुखड़े राम नी आवे,
केसर गुल गई गारा मे,
मोनको जमारो एडो मती खोवो,
सुखरत करलो जमारा में ए हा।।

गायक – प्रकाश माली जी।
प्रेषक – मनीष सीरवी
9640557818


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें