नाथजी री अवलुडी में कलपे कालजियों

राजस्थानी भजन

नाथजी री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
ओतो दर्शन ने तडपे दौनु नैन,
सिरेमंदर जावुला,
म्हारा रोम रोम होग्या नैन,
सिरेमंदर जावुला।।



शान्तिनाथजी म्हारे हिवडे में बसिया,

संत सु सिमरण करु सांसो में बसिया,
ओ ज्योरा मिसरी सु मिठा लागे नैन,
सिरेमंदर जावुला,
दर्शन ने तडपे दौनु नैन,
सिरेमंदर जावुला,
पीरजी री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
नाथजीं री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
ओ तो दर्शन ने तडपे दौनु नैन,
सिरेमंदर जावुला,
सिरेमंदर जावुला,
म्हारा रोम रोम होग्या नैन,
सिरेमंदर जावुला।।



लाखों लोग गुरुजी रा दर्शन ने आवे,

मन वंचित फल वे नर पावे,
म्हारी पीरजी री भक्तोली में,
पीरजी री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
नाथजीं री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
ओ तो दर्शन ने तडपे दौनु नैन,
सिरेमंदर जावुला,
सिरेमंदर जावुला,
म्हारा रोम रोम होग्या नैन,
सिरेमंदर जावुला।।



अलख समाधियों गुरुदेव बिराजे,

सब भक्तों रा पीरजी कारज साजे,
ज्योरा ओमकार गुंजे सारी रेण,
सिरेमंदर जावुला,
पीरजी री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
नाथजीं री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
ओ तो दर्शन ने तडपे दौनु नैन,
सिरेमंदर जावुला,
सिरेमंदर जावुला,
म्हारा रोम रोम होग्या नैन,
सिरेमंदर जावुला।।



लिखे जोरावर भजन भाव सु,

रविन्द्र भजन गावे साव सु,
म्हारा पीरजी ने केजो म्हारी चैण,
सिरेमंदर जावुला,
पीरजी री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
नाथजीं री अवलुडी में,
कलपे कालजियों,
ओ तो दर्शन ने तडपे दौनु नैन,
सिरेमंदर जावुला,
सिरेमंदर जावुला,
म्हारा रोम रोम होग्या नैन,
सिरेमंदर जावुला।।



नाथजी री अवलुडी में,

कलपे कालजियों,
ओतो दर्शन ने तडपे दौनु नैन,
सिरेमंदर जावुला,
म्हारा रोम रोम होग्या नैन,
सिरेमंदर जावुला।।

प्रेषक – मदनसिंह जोरावत बागरा
9916300738


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: कृपया प्ले स्टोर से \"भजन डायरी\" एप्प डाउनलोड करे।