नाम हरि का हृदय से ना भूलो ये भुलाने के काबिल नही है लिरिक्स

नाम हरि का हृदय से ना भूलो,
ये भुलाने के काबिल नही है,
बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है,
ये गंवाने के काबिल नही है।।

तर्ज – ज़िन्दगी एक किराये का घर।



चोला अनमोल तेरा सिला है,

जिसमे जीवन का फूल खिला है,
स्वांस गिन गिन के तुझको मिला है,
ये गंवाने के काबिल नही है,
नाम हरी का हृदय से ना भूलो,
ये भुलाने के काबिल नही है,
बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है,
ये गंवाने के काबिल नही है।।



इतने अनमोल जीवन को पाकर,

खोज अपनी ना की मन लगाकर,
वो तो भगवान के पास जाकर,
मुँह दिखाने के काबिल नही है,
नाम हरी का हृदय से ना भूलो,
ये भुलाने के काबिल नही है,
बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है,
ये गंवाने के काबिल नही है।।



तूने नर तन भी पाके क्या कीता,

ना पढ़ी ना सुनी भगवत गीता,
साधु संयासी बन मन ना जीता,
वो संत कहाने के लायक नही है,
नाम हरी का हृदय से ना भूलो,
ये भुलाने के काबिल नही है,
बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है,
ये गंवाने के काबिल नही है।।



नाम हरि का हृदय से ना भूलो,

ये भुलाने के काबिल नही है,
बड़ी मुश्किल से नर तन मिला है,
ये गंवाने के काबिल नही है।।

गायक / प्रेषक – मुकेश कुमार मीना।
(सुर संगम यूट्यूब चैनल)
संपर्क – 9660159589


इस भजन को शेयर करे:

अन्य भजन भी देखें

चिट्ठी ना कोई संदेश जाने वो कौन सा देश श्रद्धांजलि गीत लिरिक्स

चिट्ठी ना कोई संदेश जाने वो कौन सा देश श्रद्धांजलि गीत लिरिक्स

चिट्ठी ना कोई संदेश, जाने वो कौन सा देश, जहाँ तुम चले गए, जहाँ तुम चले गए, इस दिल पे लगा के ठेस, जाने वो कौन सा देश, जहाँ तुम…

गोप अष्टमी आज निराली मैया का श्रृंगार करो गौमाता भजन

गोप अष्टमी आज निराली मैया का श्रृंगार करो गौमाता भजन

गोप अष्टमी आज निराली, मैया का श्रृंगार करो, कभी कटे ना कोई गैया, ऐसा तुम उपचार करो।। तर्ज – थाली भरकर लायी खीचड़ो। बूचड़ खानो की गलियों में, सदा बिठादो…

कोयलिया बोली रे अम्बुआ की डाल अपनो कोई नहींआ रे

कोयलिया बोली रे अम्बुआ की डाल अपनो कोई नहींआ रे

कोयलिया बोली रे, अम्बुआ की डाल, अपनो कोई नहींआ रे, बिना राम रघुनंदन, अपना कोई नहींआ रे, बिना राम रघुनंदन, अपना कोई नहींआ रे।। बाग लगाए बगीचा लगाए, और लगाए…

प्रेम नगर मत जा ए मुसाफिर भजन लिरिक्स

प्रेम नगर मत जा ए मुसाफिर भजन लिरिक्स

प्रेम नगर मत जा ए मुसाफिर, दोहा – प्रेम बिना पावे नहीं, चाहे हुनर करो हज़ार, कहे प्रीतम प्रेम बिना, मिले ना नंद कुमार। प्रेम नगर मत जा ए मुसाफिर,…

Bhajan Lover / Singer / Writer / Web Designer & Blogger.

1 thought on “नाम हरि का हृदय से ना भूलो ये भुलाने के काबिल नही है लिरिक्स”

Leave a Comment

error: कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इंस्टाल करे