ना मैं मीरा ना मैं राधा भजन लिरिक्स

ना मैं मीरा ना मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है,
पास मेरे तो कुछ भी नहीं है,
चरणों में शीश झुकना है,
न मैं मीरा न मैं राधा।।



जब से तेरी सूरत देखि,

कुसुम प्रेम की मूरत देखि,
अपना तुझे बनाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा।।



जप तप साधन कुछ न जानू,

अपनी लगन को सब कुछ मानु,
दिल का दर्द सुनाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा।।



जनम जनम से भूली तुमको,

अब जाकर हूँ जानी तुमको,
अब ना तुम्हे भुलाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा।।



दासी तेरी शरण में आई,

लगन मिलन की मन में समाई,
प्रेम की भेट चढ़ाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा,
फिर भी श्याम को पाना है,
न मैं मीरा न मैं राधा।।



ना मैं मीरा ना मैं राधा,

फिर भी श्याम को पाना है,
पास मेरे तो कुछ भी नहीं है,
चरणों में शीश झुकना है,
न मैं मीरा न मैं राधा।।

स्वर – श्री गौरव कृष्ण गोस्वामी।
प्रेषक – हरिओम गलहोत्रा
8427905234


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें