मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी ओ गोवर्धन गिरधारी

मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी,
ओ गोवर्धन गिरधारी।।



आये हैं हम तेरे द्वारे,

टेर सुनो जसुदा के प्यारे,
चल न कंटक पथ पर,
चलते चलते ये पग हारे,
विनय सुनो मोरी बनवारी,
ओ गोवर्धन गिरधारी।।



अश्रुधार सींच रहा हूँ,

है गिरधारी चरण तुम्हारे,
कौन खबर ले तुम बिन मोरी,
कौन हमारी विपदा टारे,
है करुनाकर जग हितकारी,
ओ गोवर्धन गिरधारी।।



भक्ति भाव की माला है बस,

और नहीं कुछ पास हमारे,
तुमसा डेटा छोड़ के है हरि,
किसके जाऊं पाव पाखरे,
‘राजेन्द्र’ तुम है बलिहारी,
ओ गोवर्धन गिरधारी।।



मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी,

ओ गोवर्धन गिरधारी।।

गीतकार / गायक – राजेन्द्र प्रसाद सोनी।
8839262340


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें