म्हारा द्वारिका रा नाथ सुणलो भक्ता री पुकार भजन लिरिक्स

म्हारा द्वारिका रा नाथ सुणलो भक्ता री पुकार भजन लिरिक्स

म्हारा द्वारिका रा नाथ,
सुणलो भक्ता री पुकार,
क्यों नी आयो रे,
क्यों नी आयो रे,
श्याम रे Šss, श्याम रे Šss ll
तर्ज – ओ बीरा रे



लाज शरम सब छोड़ी रे साँवरिया,

तेरे पीछे आज मैं तो बनी रे जोगनिया,
लाज शरम सब छोड़ी रे साँवरिया,
तेरे पीछे आज मैं तो बनी रे जोगनिया,
अब तो चिर पे चिर बढ़ा जा,
अब तो चिर पे चिर बढ़ा जा,
अब तो भरी सभा में आजा,
मोरे श्याम रे, मोरे श्याम रे,
ओ बीरा रे Šss, बीरा रेŠss ll



गईया बुलावे थारे भगता बुलावे रे,

मेवाड़ बुलावे राजस्थान यो बुलावे रे,
गईया बुलावे थारे भगता बुलावे रे,
मेवाड़ बुलावे राजस्थान यो बुलावे रे,
अब तो दौड़ा दौड़ा आजा,
अब तो दौड़ा दौड़ा आजा,
थोड़ी सी झलक दिखा जा,
मोरे श्याम रे, मोरे श्याम रे,
ओ बीरा रे Šss, बीरा रेŠss ll



म्हारा द्वारिका रा नाथ,

सुणलो भक्ता री पुकार,
क्यों नी आयो रे,
क्यों नी आयो रे,
श्याम रे Šss, श्याम रे Šss ll


१ टिप्पणी

आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें