मेरी चुनरी में पड़ गयो दाग री भजन लिरिक्स

मेरी चुनरी में पड़ गयो दाग री भजन लिरिक्स

मेरी चुनरी में पड़ गयो दाग री,
कैसो चटक रंग डारो,
श्याम मेरी चुनरी में पड़ गयो दाग री,
कैसो चटक रंग डारों।।



औरन को अचरा ना छुअत है,

औरन को अचरा ना छुअत है,
या की मोहि सो,
या की मोहि सो लग रही लाग री,
या की मोहि सो लग रही लाग री,
कैसो चटक रंग डारों,
श्याम मोरी चुनरी में पड़ गयो दाग री,
कैसो चटक रंग डारों।।



मो सो कहतो सुन्दर नारी,

मो सो कहतो सुन्दर नारी,
ये तो मोही सो,
ये तो मो हि सो खेले फाग री,
ये तो मो हि सो खेले फाग री,
कैसो चटक रंग डारो,
श्याम मेरी चुनरी में पड़ गयो दाग री,
कैसो चटक रंग डारों।।



बल बल दास आस ब्रज छोड़ो,

बल बल दास आस ब्रज छोड़ो,
ऐसी होरी में,
ऐसी होरी में लग जाये आग री,
ऐसी होरी में लग जाये आग री,
कैसो चटक रंग डारों,
श्याम मोरी चुनरी में पड़ गयो दाग री,
कैसो चटक रंग डारों।।



मेरी चुनरी में पड़ गयो दाग री,

कैसो चटक रंग डारो,
श्याम मोरी चुनरी में पड़ गयो दाग री,
कैसो चटक रंग डारों।।

Singer : Shri Mridul Krishna Ji


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें