मेरी बांके बिहारी जू से प्रीत ये दुनिया जान गई भजन लिरिक्स

मेरी बांके बिहारी जू से प्रीत,
ये दुनिया जान गई,
जान गई पहचान गई,
जान गई पहचान गई,
मुझे मिल गया मन का मीत,
ये दुनिया जान गई,
मेरी बांके बिहारी जू से प्रीत,
ये दुनिया जान गई।।

तर्ज – मेरी लगी श्याम संग प्रीत।



बांके बिहारी जु की,

बांकी बांकी गलियां,
बांकी बांकी गलियां,
ये टेढ़ी मेढ़ी गलियां,
उन गलियों में गाऊंगा मै गीत,
ये दुनिया जान गई,
मेरी बांके बिहारी जु से प्रीत,
ये दुनिया जान गई।।



बांके बिहारी जु की,

बांकी बांकी बाँसुरिया,
बांकी बाँसुरिया,
बांकी बाँसुरिया,
ने मिठो सूरलिया,
मैने सुना प्रेम संगीत,
ये दुनिया जान गई,
मेरी बांके बिहारी जु से प्रीत,
ये दुनिया जान गई।।



बांके बिहारी जु के,

बांके बांके पागल,
इन पगलो ने किया है,
जग घायल,
तेरी बांकी प्रीत की रीत,
ये दुनिया जान गई,
मेरी बांके बिहारी जु से प्रीत,
ये दुनिया जान गई।।



मेरी बांके बिहारी जू से प्रीत,

ये दुनिया जान गई,
जान गई पहचान गई,
जान गई पहचान गई,
मुझे मिल गया मन का मीत,
ये दुनिया जान गई,
मेरी बांके बिहारी जू से प्रीत,
ये दुनिया जान गई।।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें