मेरी अखियां तरसे तेरे दीदार के लिये भजन लिरिक्स

मेरी अखियां तरसे तेरे,
दीदार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये।।

तर्ज – दिल दीवाने का डोला।



बाबा मुझको अपना लो,

दुःख संकट मेरे टालो,
मुझे अपना दास बना लो,
मुझे अपना दास बना लो,
मैंने तोड़ा जगत से नाता,
भव पार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये।।



मुझे ऐसी शक्ति दे दे,

मुझे ऐसी भक्ति दे दे,
मुझे बाबा मुक्ति दे दे,
मुझे बाबा मुक्ति दे दे,
मैं पड़ा हूँ तेरे द्वारे,
उद्धार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये।।



मुझे बाबा दर्श दिखाना,

तेरे नाम का हूँ दीवाना,
‘श्री पाल’ को ना बिसराना,
‘श्री पाल’ को ना बिसराना,

मैं गाऊं भजन रसीले,
तेरे प्रचार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये।।



मेरी अखियां तरसे तेरे,

दीदार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये,
मैं बरसो तड़पा सांवरिया,
तेरे प्यार के लिये।।

स्वर – रजनी जी राजस्थानी।
प्रेषक – विक्रम सिंह आंजना।
7771832380


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें