घर आए नंदलाला जन्माष्टमी भजन लिरिक्स

बाजे रे बधैया,
घर आए नंदलाला,
बाजे रे बधैया,
घर आए नँदलाला।bd।

तर्ज – राधे राधे जपो चले।



गोकुल आज ख़ुशी से झूमे,

पवन भी कान्हा के पग चूमे,
मन को लुभाए रे जी मुरली वाला,
बाजे रे बधैया,
घर आए नँदलाला।bd।



देवी देव दर्शन को आए,

देख के कान्हा मन मुस्काए,
पहनाए है पुष्प की माला,
बाजे रे बधैया,
घर आए नँदलाला।bd।



सब ही निहार रहे कान्हा को,

मोह रहे कान्हा है मन को,
सबको अपने रंग रंग डाला,
बाजे रे बधैया,
घर आए नँदलाला।bd।



‘सारा’ ‘शहनाज़’ भी देवे बधाई,

नन्द बाबा घर जन्मे कन्हाई,
‘प्रतिक’ बोले जय गोपाला,
बाजे रे बधैया,
घर आए नँदलाला।bd।



बाजे रे बधैया,

घर आए नंदलाला,
बाजे रे बधैया,
घर आए नँदलाला।bd।

Singer – Shahnaz & Sara Akhtar


आपको ये भजन कैसा लगा? कृपया प्ले स्टोर से भजन डायरी एप्प इनस्टॉल कीजिये।

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें