मेरे साहेबा मेरे मोहना मैं तेरी हो चुकियां भजन लिरिक्स

मेरे साहेबा मेरे मोहना मैं तेरी हो चुकियां भजन लिरिक्स

मेरे साहेबा, मैं तेरी हो चुकियां,
मेरे मोहना, मैं तेरी हो चुकियां,
मेरे साजना, मैं तेरी हो चुकियां । ।
(मेरे भगवन, में तेरी हो चुकी हूँ,
मेरे मोहन,में तेरी हो चुकी हूँ,)



अवगुण हारी, कोई गुण नाहीं,

बक्श करे ते मैं झुकियां । ।
(बुराई को दूर करने वाले,
मुझमे कोई गुण नहीं है,
मुझे क्षमा करो, में झुकता हूँ)



जे तू नज़र मेहर दी पावे,

चढ़ चौबारे मैं सुतियाँ । ।
(यदि आप अपनी,
करुणा नजर मुझ पर कर दो,
तब मेरी सारी चिंताए दूर हो जाएगी),



मनु ना विसारी, मैनु मेरे सोणेया,

हर गल्लो मैं झुकियां । ।
(मुझे अपने मन से कभी दूर मत करना,
मेने खुद को तुम्हे समर्पित कर दिया है)



ज्यो भावे त्यों राख प्यारेया,

दाम तेरे मैं लुटियां । ।
(तुम्हे जैसे रखना है मुझे रख लो,
तेरे मोल से में लूट गई हूँ,)



कहे हुसैन, फकीर साई दा,

इक तेरी बन मुकियां । ।
(ज्ञानियो का कहना है,
एक तेरा बनकर रहना है,)



मेरे साहेबा, मैं तेरी हो चुकियां,

मेरे मोहना, मैं तेरी हो चुकियां,
मेरे साजना, मैं तेरी हो चुकियां । ।


आपको ये भजन कैसा लगा ? अपने विचार बताएं

अपनी टिप्पणी लिखें
अपना नाम दर्ज करें